केन्द्रीय विद्यालय, वल्लभ विद्यानगर, आनन्द

विद्यालय राजभाषा कार्यान्वयन समिति की बैठक की कार्य-सूची

1- विगत बैठक के कार्यवृत्त की संपुष्टि ।

2- पिछली बैठक में लिए गए निर्णयों के अनुपालन की समीक्षा ।

3- हिन्दी कार्यशालाओं का आयोजन ।

4- हिन्दी के प्रयोग की स्थिति की समीक्षा ।

5- के.वि.सं. (मुख्यालय) के पत्र सं 11025/19(1)/2016/केविसं(मु)/1807-1929 दिनांक 16/08/2016, पत्र सं 11025-3/2016/केविसं(मु)/हिन्दी /8352  दिनांक 05/08/2016,  के.वि.सं. क्षे.का. (अहमदाबाद संभाग) के पत्र सं 12025/3/2016/केविसं(अक्षे)/दिनांक 17/08/2016 विद्यालय में राजभाषा पखवाड़ा का आयोजन तथा तिमाही रिपोर्ट की समीक्षा विषयक पत्र द्वारा निर्दिष्ट बिन्दुओं पर चर्चा

6- विद्यालय में राजभाषा पखवाड़ा का आयोजन    

7- अध्यक्ष जी की अनुमति से किसी अन्य विषय पर विचार-विमर्श ।

विद्यालय राजभाषा कार्यान्वयन समिति की बैठक का कार्यवृत्त

विद्यालय राजभाषा कार्यान्वयन समिति की त्रैमासिक बैठक दिनांक 29-08-2016 को प्राचार्य कक्ष में संपन्न हुई । जिसकी अध्यक्षता माननीय जितेंद्र कुमार दडोच, प्राचार्य ने की । बैठक में निम्नलिखित सदस्य उपस्थित थे -

1-  श्री आर एल मेनारिया, सचिव

2- श्री लालजी भाई मकवाना,

3- श्री प्रमोद कुमार सिंह, सदस्य

4- श्री मुस्ताक व्होरा

5- श्रीमती अमिता परमार

6- श्रीमती एलिजा डाभी

 

बैठक के आरंभ में सर्वप्रथम अध्यक्ष जी द्वारा हिन्दी के प्रगामी प्रयोग को बढावा देने की आवश्यकता पर चर्चा की गई । श्री आर एल मेनारिया ने कार्यसूची में उल्लिखित पत्रों का वाचन किया । अध्यक्ष जी ने मुख्यालय तथा के.वि.सं. (अहमदाबाद संभाग) से प्राप्त उपरि लिखित पत्रों में निर्दिष्ट बिन्दुओं तथा के.वि. संगठन द्वारा राजभाषा नीति के विषय में जारी निर्देशों के सम्यक पालन का निर्देश दिया  ।

उपर्युक्त सामान्य चर्चा के पश्चात बैठक की कार्यसूची में उल्लिखित विषयों पर विचार-विनिमय हुआ, जिसका संक्षिप्त विवरण अधोलिखित है-

1- समिति द्वारा विगत बैठक के कार्यवृत्त की संपुष्टि की गई ।

2- समिति द्वारा विगत बैठक में लिए गए निर्णयों के अनुपालन की समीक्षा की गई । सदस्यों ने इस बात पर संतोष व्यक्त किया कि पिछली बैठक के अधिकांश निर्णयों का अनुपालन हो चुका है । अध्यक्ष जी द्वारा सम्बद्ध कर्मचारियों को शेष कार्यों को शीघ्रातिशीघ्र पूर्ण करने का निर्देश दिया ।

3- कार्यालयी हिन्दी से परिचित कराने तथा उसके प्रयोग में संकोच दूर करने के लिए आगामी तिमाही के दौरान एक कार्यशाला आयोजित करने का निर्णय लिया गया ।

4- विद्यालय के अध्यापकों तथा कर्मचारियों द्वारा दैनन्दिन कार्यों में हिन्दी का प्रयोग किया जाता है ।

क - क्षेत्र से पत्राचार अनिवार्य रूप से हिन्दी में ही किया जाता है, किंतु ऐसे पत्रों में उत्तर दिए जाने वाले पत्रों की संख्या कम होने के कारण त्रैमासिक प्रतिवेदन में पत्राचार में अपेक्षित वृद्धि दिखाई  नहीं देती । सदस्यों ने अध्यक्ष महोदय ने इस बात पर विशेष बल दिया कि पत्राचार तथा धारा 3(3) में वर्णित कागजात जारी करते हुए हिन्दी के अधिकाधिक प्रयोग का प्रयास किया जाए ।  

5-कार्य सूची के बिन्दु 5 पर उल्लिखित पत्रांकों में उल्लिखित बिन्दुओं पर चर्चा करते हुए अध्यक्ष जी ने इस बात पर संतोष व्यक्त किया कि विद्यालय में अधिकांश निर्देशों का अनुपालन हो रहा है,  तथापि निर्देशों/सुझावों का अनुपालन करते हुए निर्धारित लक्ष्यों को शीघ्रातिशीघ्र प्राप्त करने हेतु प्रयत्न जारी रखे जाने चाहिए ।11025-3/2016/केविसं(अक्षे)/हिन्दी /8352  दिनांक 05/08/2016 द्वारा निर्दिष्ट बिन्दुओं पर चर्चा करते हुए अध्यक्ष जी ने बताया कि राजभाषा अधिनियम और उसके अधीन बनाए गए नियमों के उपबंधों के समुचित अनुपालन के लिए प्रभावी जांच बिन्दु निर्धारित किए जाएं। कार्यालय को इन नियमों के उपबंधों के समुचित अनुपालन के लिए प्रभावी जांच बिन्दु निर्धारित कर उनका अनुपालन करने के निर्देश दिए गए।राजभाषा मंत्रालय द्वारा निर्धारित क, ख तथा ग क्षेत्रों से पत्राचार में हिन्दी का प्रतिशत लक्ष्य प्राप्त करने हेतु आवश्यक कदम उठाने का निर्देश दिया । बैठक का कार्यवृत्त क्षेत्रीय कार्यालय के अवलोकनार्थ प्रेषित किया जाएगा । विद्यालय में प्रयोग किए जा रहे फॉर्मों / प्रपत्रों में से अधिकांश द्विभाषी हैं। शेष को द्विभाषी रूप में परिवर्तित करने का कार्य प्रगति पर है । फाइलों/पंजिकाओं पर हिन्दी में न्यूनतम 60% टिप्पणी के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। कार्यालय द्वारा सभी कर्मचारियों की सेवा पुस्तिका में वेतन-वृद्धि संबंधी प्रविष्टियाँ हिन्दी में की गई हैं ।के. वि. सं. के पत्र सं 120350/1/2013/केविसं(अक्षे)/शैक्षिकदिनांक 11/06/2013 के संदर्भ      में लेख है कि हमारे विद्यालय में सभी कम्प्यूटरो पर यूनिकोड फोंट्स एक्टिवेट कर दिए गए है   तथा सभी कर्मचारियो को इस विषय में अवगत करा दिया गया है। यह सुनिश्चित कर दिया गया है कि भविष्य में सभी पत्राचार में यूनिकोड का ही प्रयोग करेंगे।

6- पत्र सं 11025-3/2016/केविसं(मु)/हिन्दी /8352  दिनांक 05/08/2016,  के.वि.सं. क्षे.का. (अ क्षे) के पत्र सं 12025/3/2016/केविसं(अक्षे)/दिनांक 17/08/2016 विद्यालय में  विगत वर्षों की भाँति इस वर्ष भी विद्यालय में राजभाषा पखवाड़ा का आयोजन दिनांक 14 से 28 सितम्बर तक किया जाएगा । राजभाषा पखवाड़ा के दौरान  माननीय मानव संसाधन मंत्री , माननीय आयुक्त महोदय एवं माननीया उपायुक्त महोदया द्वारा जारी अपील सभी को पढ़ कर सुनाई जाए। प्रार्थना सभा के कार्यक्रम अनिवार्य रूप से हिंदी में ही हों, प्रतिदिन हिन्दी विषयक विशेष कार्यक्रम भी रखा जाए तथा विशेषत: अहिन्दीभाषी शिक्षक/शिक्षिकाएँ, यथासंभव प्रार्थना सभा में हिंदी कार्यक्रम अवश्य प्रस्तुत करें । के वि सं के द्वारा प्रेषित पावर पोइंट प्रजेंटेशन दिखाकर विद्यालय के सभी कर्मचारियों को राजभाषा अधिनियम 1963, राजभाषा नियम 1976 और राजभाषा विभाग द्वारा समय समय पर जारी  राजभाषा सबंधी अनुदेशों से परिचित कराया जाए। साथ ही प्रतिवर्ष की भाति विविध कारा क्रम आयोजित किए जाएं ।

7- अध्यक्ष जी की अनुमति से सचिव ने सभा को सूचित किया कि के. हि. संस्थान के अधीन पत्राचार द्वारा हिंदी प्राज्ञ पाठ्यक्रम हेतु विद्यालय से पाँच कर्मचारियों को नामित किया गया था। सभा मे इस बात की प्रसन्नता व्यक्त की गई कि इन सभी ने यह परीक्षा उत्तीर्ण कर ली है ।  

अंत में सचिव द्वारा धन्यवाद ज्ञापन के पश्चात सभा विसर्जित की गई ।

 

 

(श्री जितेंद्र कुमार दडोच)

 अध्यक्ष एवं सभापति

 

1-  श्री आर एल मेनारिया, सचिव

2- श्री लालजी भाई मकवाना,

3- श्री प्रमोद कुमार सिंह, सदस्य

4- श्री मुस्ताक व्होरा

5- श्रीमती अमिता परमार

6- श्रीमती एलिजा डाभी